पहचान

खुद से, जिंदगी से और खुशियों से

56 Posts

1777 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3085 postid : 128

"सखी सईंया तोह खूब ही कमात है"

Posted On: 21 Dec, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

index

इस देश का गरीब खुश कब होता है
पांच वर्ष बाद चुनाव जब होता है
हर ऐरे गैर के भाषण में
इनका ही तो जिक्र होता  है
इनके लिए एक साथ कई

योजनाओ का शुभारम्भ भी खूब हो जाता है
देश का गरीब चुनाव के बाद राह ताकता रह जाता है

gg

यहाँ का गरीब कितना नासमझ और नादाँ होता है
पांच साल के बाद ये नजारा आम होता है
नेताओ को ऐसे ही नहीं बइमान कहा जाता है
गरीबो का राशन तो इनका ही परिवार खा जाता है

सरकारी  दुकानों में भी क्या खूब खेल खेला जाता है
राशन कार्ड उनका बनता है जो बोर्डर पार से आता है
fgy

यहाँ का गरीब तो वहां भी ब्लेक में ही राशन पाता है

नेताओ के इस खेल में
हर बार वो ही ठगा जाता है
अपनी तक़दीरवो रामभरोसे पाता है

और इसी के साथ अंत में

प्याज के साथ रोटी वो बड़े संतोष से खाइ जात है
मगर  उसके लिए भी अब वो तरस सा जात है
इसी मज़बूरी में वो यही गुनगुनात है
सखी सईंया तोह खूब ही कमात है
मंहगाई डायन खाय जात है

fgg

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

15 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

HIMANSHU BHATT के द्वारा
December 23, 2010

दिव्या जी, नमस्कार, एक बेहतरीन व्यंगात्मक काव्यशैली से परिपूर्ण रचना प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद.

    div81 के द्वारा
    December 23, 2010

    हिमांशु जी, नमस्कार हौसलाफजाई और प्रतिक्रिया के लिए आप का शुक्रिया

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
December 22, 2010

सरकारी दुकानों में भी क्या खूब खेल खेला जाता है राशन कार्ड उनका बनता है जो बोर्डर पार से आता है चित्र संयोजन से सजी सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई……….

    div81 के द्वारा
    December 23, 2010

    पियूष जी, आप का शुक्रिया

Aakash Tiwaari के द्वारा
December 22, 2010

Div ji, Mai to seedhe taur pe janta ko hi doshi maanta hun kyonki..jo Sarkaar 5 saal tak kuch nahi ka paai vo aage kya karegi logo ne isko dhyaan nahi diya aur congress ko vote dekar jitaa diya uke badle me mila kya..Pyaaj ==60 rs,,Petrol=60 rs.. Neta to chor hai hi..thokta hun congress aur chor netaon par…. Aakash tiwaary

    div81 के द्वारा
    December 23, 2010

    आकाश जी,सही कहा आप ने पढे लिखे और समझदार लोगो का जो वर्ग है वो वोट नहीं देता बचे गरीब और अशिक्षित वर्ग के लोग वो तो भोले है जहाँ अपने विकास की बात सुनते है वहीँ पर वोट दे आते है कुछ लोग ऐसे है जिनको खरीद लिया जाता है तो आप समझ ही सकते है कैसे ये लोग राज करते आ रहे है | आप का शुक्रिया

jagobharat के द्वारा
December 22, 2010

दीवाजी अभिवादन, “राशन कार्ड उनका बनता है जो बोर्डर पार से आता है” तीक्ष्ण व्यंग्य…..सराहनीय रचना

    div81 के द्वारा
    December 23, 2010

    नमस्कार, प्रतिक्रिया और सराहना के लिए आप का शुक्रिया

nishamittal के द्वारा
December 22, 2010

बहुत अच्छे सचित्र विवरण से देश को लूटने वाले नेताओं की पोल खोली है आपने

    div81 के द्वारा
    December 23, 2010

    निशाजी नमस्कार, आप का शुक्रिया

ASHVINI KUMAR के द्वारा
December 21, 2010

प्रिय बहन तुम्हारी लेखनी दिनों दिन पैनी होती जा रही है,, प्याज के साथ रोटी वो बड़े संतोष से खाइ जात है, मगर उसके लिए भी अब वो तरस सा जात है,,तेरी ये पंक्तियाँ तो वाह वाह …..जय भारत

ASHVINI KUMAR के द्वारा
December 21, 2010

प्रिय बहन तुम्हारा लेखनी दिनों दिन पैनी होती जा रही है प्याज के साथ रोटी वो बड़े संतोष से खाइ जात है, मगर उसके लिए भी अब वो तरस सा जात है,,तेरी ये पंक्तियाँ तो वाह वाह …..जय भारत

    div81 के द्वारा
    December 23, 2010

    दादा तारीफ के लिए और हौसला बढ़ने के लिए आप का तहे दिल से शुक्रिया

abodhbaalak के द्वारा
December 21, 2010

दिवा जी आपने इस बार व्यंगा का तड़का बड़े ही सलीके से लगाया है और वो सचित्र. आप भी धीरे धीरे इस मंच की सुपर स्टार बनती जा रही हैं, सुन्दर रचना के लिए बंधाई हो http://abodhbaalak.jagranjunction.com

    div81 के द्वारा
    December 23, 2010

    अबोध जी , ये तड़का स्पेशल आप को पसंद आया इसके लिए शुक्रिया अबोध जी आप ही की तरह लिखने का प्रयास भर है ये सुपर स्टार वाली बात कहाँ से ले आये आप


topic of the week



latest from jagran