पहचान

खुद से, जिंदगी से और खुशियों से

56 Posts

1777 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3085 postid : 176

"नव वर्ष का संकल्प "

Posted On: 1 Jan, 2011 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हर वर्ष कि भांति सोच रहा हूँ इस वर्ष भी

कुछ संकल्प ले डालूं

गाड़ी को छोड़, पैदल चलना शुरू कर दूँ

और प्याज मुई को हाथ न लगाऊं

बच्चो का दाखिला सरकारी स्कूल में कर आऊं

फी भी उनकी माफ़ करावा दूँ

वैसे भी पढ़ते कम खेलते ज्यादा है

खेलो के द्वारा ही इनका भविष्य कुछ बना दूँ

इनका खेलना ही कुछ दूरगामी फल दे  जाये

खेलो में ये गोल्ड नहीं तो रजत ही ले आये

चांदी के भाव भी तो चढ़ गए है मेरे भाई

नव वर्ष में  रख लूँ बीबी का भी ख्याल

कर लूँ ख़त्म पुराने झगड़े तमाम

किसी सस्ती और अच्छी जगह से

साड़ी ही दिला दूँ चार

इसी बहाने खाना भी अच्छा मिलेगा

चाय में चीनी और सब्जी में नमक ही मिलेगा

मगर पत्नी हमारी पुरानी गाड़ी जैसी हो गयी है

बात बात में बिगड़ी ही वो रहती हैअगर वो गाडी होती तो बेच भी आता

उन पैसो से कुछ तो खर्चा चल जातामगर पत्नी का मान हमने बढ़ाना था

अपना पति धर्म भी तो निभाना थाकई दिनों से वो मुझ से खफा थी,

मनाने के नाम पर गोल्ड पर ही अड़ी थी

ये बीबी भी जीना हराम कर कर रही थी,

इससे तो अच्छा तन्हा ही  कट रही थीसोच रहे हैं आता हुआ साल कुछ मिठास भरा हो जाये

लेकिन जेब में अब कुछ भी शेष नहीं है

गाजर के हलवे से कर लेते थे मुह मीठामगर अब न रहा उसका भी टेस्ट वैसा

मावा नहीं है अब खाने जैसा

असली घी में भी है सब नकली जैसा

क्या करे इस नए साल में

जेब भी न आने पाए भार  में

दोस्तों को तभी फ़ोन मिलाया

उन्होंने सपरिवार घर आने का नयौता दे डाला

हम पहुंचे घर उनके श्रीमती जी के साथ

इंतजाम वहां का बड़ा ही खास था

हर शख्स के हाथ में जाम छलक रहा था

जाम के साथ था डांस भी क्या कमाल था

शीला अपने पुरे यौवन  में थी

मुन्नियाँ भी पीछे थोड़े ही थी

बदनामी में वो सब को मात दे रही थी

इसी बात में बीबी हमारी कलप रही थी

बेहयाई कि वो दुहाई दे रही थी

घर चल कर देख लेंगे ऐसी धमकी

बीच बीच में दो चार वो दे रही थी

हम मौका चूकना नहीं चाहते थे

मगर घर जा कर पीटना भी नहीं चाहते थे

इसी लिए दिल में मलाल लिए विदा हम ले रहे थे

साथ ही श्रीमती के चेहरे में संतुष्टि के भाव भी देख रहे थे

घर पहुँच श्रीमती जी ने हम को

नववर्ष के उपलक्ष में हलवा है खिलाया

हमारे ख्यालो में चल रहे

जलवे को जोरो का ब्रेक लगाया

अब देते है अपने विचारों को विराम

नववर्ष में आप सभी को मेरा सलाम

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

25 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Avi के द्वारा
February 1, 2011

हा हा हा…. व्यंगपूर्ण खूबसूरत रचना ..अंत भला तो सब भला…भगवान् करे जिन जिन के भी बीबी है उन्हें पूरे साल हलवा खिलाये.

nishamittal के द्वारा
January 4, 2011

अरे वाह दिव्या अच्छे रंग बिखेरे अपनी कविता से .सच नववर्ष का भोंडा स्वरूप जो आज की पीढी की जान है.होटल,शराब,भद्दे आधुनिक डांसकेवल पहली जनवरी नहीं कोई भी ख़ुशी मनाने का यही तरीका है आज

    div81 के द्वारा
    January 5, 2011

    ये आज का कड़वा सच है आधुनिकता के नाम पर अब सिर्फ अब अश्लीलता ही बच गयी है | प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया

Arunesh Mishra के द्वारा
January 4, 2011

बहुत खूब.

    div81 के द्वारा
    January 5, 2011

    अरुणेश जी, ……………………प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया

Aakash Tiwaari के द्वारा
January 3, 2011

div जी, एक खूबसूरत रचना पर आपको बधाई… “आप हंसते रहे मुस्कुराते रहे, नया साल का हर दिन आपका जगमगाता रहे, खुशियाँ मिले इतनी की आप गिन न सको, दुनिया में आपके ही चर्चे होते रहे”… नववर्ष की आपको तथा आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाये.. http//:aakashtiwaary.jagranjunction.com आकाश तिवारी

    div81 के द्वारा
    January 5, 2011

    आकाश जी, हमारी तरफ से आपको और आपके परिवार को नव वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाये नव वर्ष आपके लिए मंगलमय हो और ढेर सारी खुशियाँ लाये इसी कामना के साथ ………..दिव्या

वाहिद के द्वारा
January 3, 2011

दाम्पत्य जीवन का चित्रण करतीहंसी की फुहारों से भरी इस सुन्दर रचना के लिए धन्यवाद|

    div81 के द्वारा
    January 4, 2011

    वाहिद जी ………………..प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया

Harish Bhatt के द्वारा
January 3, 2011

दिब्या जी नमस्ते बहुत ही बेहतरीन और सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई. आपकी लेखन शैली 2011 में आपको लेखन के क्षेत्र में नयी बुलंदियों पर ले जाये इन्ही शुभकमानाओ के साथ नववर्ष की आपको व आपके परिवार को हार्दिक बधाई.

    div81 के द्वारा
    January 4, 2011

    हरीशजी नमस्कार ……………………शुक्रिया आप को भी ये नववर्ष नयी खुशियाँ और सफलता के नयी राह पर ले कर जाए आपको आपके परिवार को नववर्ष की मंगलकामनाये

Dharmesh Tiwari के द्वारा
January 3, 2011

दिब्या जी नमस्ते नए वर्ष पर एक बेहतरीन संकल्प क्या बात है नए वर्ष २०११ की आपको व आपके परिवार को ढेरों शुभकामनाये,धन्यवाद!

    div81 के द्वारा
    January 4, 2011

    धर्मेश जी, नमस्कार आप को भी नववर्ष की शुभकामनाये

abodhbaalak के द्वारा
January 3, 2011

दिव जी बहुत ही सुन्दर कविता, नव वर्ष को आपने कुछ नया ही रंग दे दिया इस रचना के द्वारा. बहुत ही मज़ेदार टेस्ट हो गया … नव वर्ष की ढेरो शुभकामनायों के साथ

    div81 के द्वारा
    January 4, 2011

    अबोध जी, आप के जीवन में ऐसा ही मजेदार टेस्ट रहे …………….शुक्रिया

rudra के द्वारा
January 3, 2011

सच मैं.. नव वर्ष पे आखिर रामदेव बाबा पर ब्लॉग के बाद कुछ थो अच्छा पढ़ा. गुदगुदाने के लिए धन्यवाद.

    div81 के द्वारा
    January 4, 2011

    रूद्र जी, आप की प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया

January 2, 2011

नव वर्ष के आगमन पर सुन्दर हास्य रचना से आपने लोगों को जो मुस्कराहट दी है, उसके लिए धन्यवाद. नव वर्ष आप के लिए मंगलमय हो….

    div81 के द्वारा
    January 2, 2011

    रतूड़ी जी, आप के द्वारा सभी ब्लोगर्स को दिया गया हसीं का जो तोफाह था (आप की पिछली पोस्ट) उसी को कायम रखने की कोशिश भर थी | आप को भी नववर्ष की शुभकानाएं ………..शुक्रिया

syeds के द्वारा
January 2, 2011

दिव्या जी,बेहद खूबसूरत हास्य कविता. नए साल में खुदा आपको तरक्की,सेहत अता करे… ५/५ http://syeds.jagranjunction.com

    div81 के द्वारा
    January 2, 2011

    शुक्रिया syeds जी, आप की ये हौसला बढती rating के लिए फिर से शुक्रिया :)

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
January 1, 2011

ये बड़े खेद का विषय है की हर साल लोग नए वर्ष मे संकल्प लेते हैं………. ओर फिर भूल जाते हैं………… हर साल लोग संकल्प लेते हैं की अब शराब नहीं पीएगे………. ओर वही संकल्प अगले वर्ष फिर लेते हुए पाये जाते हैं…………. आपको व आपके पूरे परिवार को नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें……………. नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो……..

    div81 के द्वारा
    January 2, 2011

    पियूष जी सही कहा आप ने जो लोग किसी खास दिन का इंतजार करते है उस दिन से हम ये शुरू करेंगे या छोड़ेंगे ऐसा उन्ही के साथ होता है जो आज में यकीं रखते है वो हमेशा अपनी बात में कायम रहते है |

HIMANSHU BHATT के द्वारा
January 1, 2011

नव वर्ष में आपको भी हमारा सलाम

    div81 के द्वारा
    January 2, 2011

    :) आप की प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया


topic of the week



latest from jagran