पहचान

खुद से, जिंदगी से और खुशियों से

56 Posts

1777 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3085 postid : 405

बक़ौल ग़ालिब..

Posted On: 1 Jan, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

11

YouTube Preview Image

एक ब्राहमण ने कहा है कि ये साल अच्छा है

ज़ुल्म की रात बहुत जल्दी ढलेगी अब तो
आग चूल्हों में हर एक रोज जलेगी अब तो

भूख के मारे कोई बच्चा नहीं रोयेगा
चैन की नींद हर एक शक्स यहाँ सोयेगा

आंधी नफरत की चलेगी न कहीं अब के बरस
प्यार की फसल उगाएगी ज़मीं अब के बरस

है यकीं अब न कोई शोर शराबा होगा
ज़ुल्म होगा न कहीं खून ख़राबा होगा

ओस और धूप के सदमे न सहेगा कोई
अब मेरे देश में बेघर न रहेगा कोई

नए वादों का जो डाला है वो जाल अच्छा है
रहनुमाओं ने कहा है की ये साल अच्छा है

दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है
दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है

काश ऐसा ही हो मगर हकीकत हम सभी जानते है फिर  भी दिल को खुश रखने को ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है | कहते है दुआओं में बहुत असर होता है  हम सभी मिल के ये दुआ करे की ये साल सभी देशवासियों के लिए अच्छा हो , खुशहाली और समृधि हर तरफ हो | आमीन  :)

आप सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये, आने वाला हर दिन हर पल आप सभी के लिए खुशियों भरा हो इसी कामना के साथ

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

37 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dineshaastik के द्वारा
January 22, 2012

कृपया इसे भी पढ़े– आयुर्वेदिक दिनेश के दोहे भाग-2 http://dineshaastik.jagranjunction.com/

abodhbaalak के द्वारा
January 4, 2012

देर से आने की माफ़ी ………. ये ग़ज़ल जगजीत सिंह के आवाज़ में सुनी थी और सुन कर दिल …………….. बड़ा ही खूबसूरत अंदाज़……. आपको नया साल पहले ही विष कर चूका हूँ, एक बार फिर से …… http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    div81 के द्वारा
    January 5, 2012

    देर से आये मगर दुरूस्त आये :) अबोध जी माफ़ी मांग के आप हर बार शर्मिंदा कर देते हो | कृपया आप से विनम्र निवेदन है कि माफ़ी न जैसे अल्फाज का प्रयोग यहाँ (मेरे ब्लॉग में) न किया कीजिये आप की विशेष कृपा होगी | धन्यवाद :) :) :) शुक्रिया आप का मेरी तरफ से आपको भी एक बार फिर से नए साल की शुभकामनाये :)

dineshaastik के द्वारा
January 3, 2012

ख्याल आपका अति सुन्दर है, यह बन  जाये काश हकीकत। इच्छा शक्ति हो गर शासन की, यह सपना हो सकता है सच। मेरी दुआ है की आपका यह ख्याल हकीकत में बदले, नये वर्ष की शुभकामनाओं  के साथ……………… http://dineshaastik.jagranjunction.com/

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय दिनेश जी, कवितात्मक प्रतिक्रिया के लिए आप का बहुत बहुत शुक्रिया

Amita Srivastava के द्वारा
January 2, 2012

दिव्या जी दुआ आपके लिए और अपने देश के लिए भी बधाई

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय अमिता जी, सभी देशवासियों को इन्ही दुआओं की जरूरत है अभी तो | दुआ भरी प्रतिक्रिया के लिए आप का बहुत बहुत शुक्रिया

Abdul Rashid के द्वारा
January 2, 2012

आमीन नव वर्ष की हार्दिक शुभकामना http://singrauli.jagranjunction.com/2012/01/02/यही-संदेश-हमारा/

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय राशिद जी, आपको भी नववर्ष की शुभकामनाएँ, शुक्रिया आप का

allrounder के द्वारा
January 2, 2012

नववर्ष की आपको हार्दिक शुभकामनाये दिव्या जी, दिल बहलाने को ग़ालिब ख़याल कैसा भी हो किन्तु मंच पर इसे बहतरीन तरीके से रखने का आपका प्रयास बहुत अच्छा है !

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    सचिन जी, नमस्कार आप को भी नववर्ष की हार्दिक मंगलकामनाये | इस जर्रानवाजी की के लिए आप का तहे दिल से शुक्रिया सचिन जी | :)

sumandubey के द्वारा
January 2, 2012

दिव्या जी नमस्कार , नववर्ष की शुभकामनाये . आपकी उम्मीद सफल हो सब की उसी में भलाई है.

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    सुमन दुबे, जी नमस्कार, आप को भी नववर्ष की शुभकामनाये | आप का बहुत बहुत शुक्रिया

आर. एन. शाही के द्वारा
January 2, 2012

दिव्या जी, हर साल तो उम्मीदों में ही गुज़रे जा रहे हैं, परन्तु वह साल जो सूखे होठों की प्यास बुझाने के लिये पानी, और जलते जठरों को शान्त करने हेतु अन्न की बोरी लेकर आता, उसके तो सिर्फ़ खयाल ही आते हैं । अब भूख मिटे न मिटे, प्यास बुझे या न बुझे, दिल भी बहल जाय तो हमें भविष्यवक्ता ब्राह्मण देव का शुक्रग़ुज़ार ही होना चाहिये । आपको नए साल की ढेर सारी बधाइयाँ ! (आपकी पोस्ट पर कमेंट करने हेतु लाग इन करके आना पड़ता है, जो सभी को असुविधाजनक लगता होगा । कृपया अपनी सेटिंग में जाकर कमेंट हेतु लाग इन करने की शर्त वाला आप्शन हटा दें ।)

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय शाही जी, सादर नमस्कार बिलकुल शाही जी दिल बहल तो जाता है इस ख्याल से की सब ठीक होगा | उम्मीद में दुनिया कायम है हम भी ये ही उम्मीद पाले है की सब ठीक और बेहतर हो जाए :) आपको भी नववर्ष की मंगलकामनाये :) शाही जी इस कष्ट के लिए क्षमा चाहूंगी | मगर कुछ अनचाही प्रतिक्रिया से परेशां हो कर मैंने ये कदम उठाया था | फिर से सेटिंग बदल देती हूँ उम्मीद करती हूँ अब सब ठीक रहेगा | आप का तहे दिल से शुक्रिया

roshni के द्वारा
January 2, 2012

दिव जी उम्मीद पे ही दुनिया कायम है .. और ग़ालिब की ये ग़ज़ल उम्मीद की रौशनी की तरह है .. नववर्ष पर सुंदर रचना प्रस्तुत करने के लिए आभार आप को भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये,… आभार

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    इस प्यारी सी प्रतिक्रिया के लिए आप का बहुत बहुत शुक्रिया रौशनी जी नववर्ष आपके जीवन में बहुत सी खुशियाँ ले कर आये इसी कामना के साथ एक बार फिर से आप का शुक्रिया

sadhana thakur के द्वारा
January 2, 2012

एक खूबसूरत एहसास जगती गज़ल,,इसे मंच पर रखने के लिए धन्यवाद् …………

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय साधना जी, आपका तहे दिल से शुक्रिया :)

akraktale के द्वारा
January 2, 2012

दिव्याजी, बहुत आशावादी रचना से नव वर्ष की शुरुआत, आपको मुबारकबाद,सपने सच हो यही कामना है सुब आमीन.

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय रक्ताले जी, नमस्कार शुक्रिया आप का इतनी प्यारी सी प्रतिक्रिया के लिए :)

shashibhushan1959 के द्वारा
January 1, 2012

आदरणीय दिव्या जी, सादर ! निराशा क्यों ? आशा के दीप जलाएं. नकारात्मक क्यों, सकारात्मक सोचें. अच्छे के लिए प्रयास करना हम सब का कर्तव्य है. नववर्ष की शुभकामनाएं.

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय शशिभूषण जी, सादर नमस्कार निराशा ? मैंने ये गज़ल साकारात्मक सोच के साथ ही पोस्ट की है | बिलकुल अच्छे के लिए प्रयास करना हम सब का कर्तव्य है | अच्छा सोचेंगे अच्छा करेंगे तो ही अच्छा होगा | नव वर्ष की आपको भी शुभकामनाये ! प्रतिक्रिया के लिए आप का बहुत बहुत शुक्रिया

RaJ के द्वारा
January 1, 2012

बहुत अच्छी नज़्म सराहनीय

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय राज जी, सादर नमस्कार इस सराहना भरी प्रतिक्रिया के लिए आप का तहे दिल से शुक्रिया

Santosh Kumar के द्वारा
January 1, 2012

दिव्या जी ,.सादर नमस्ते बहुत ही सुन्दर रचना के साथ नववर्ष का उम्मीद भरा अभिनन्दन बहुत अच्छा लगा ,..आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय संतोष जी, सादर नमस्कार प्रोत्साहन भरी इस प्यारी सी प्रतिक्रिया के लिए आप का बहुत बहुत शुक्रिया

minujha के द्वारा
January 1, 2012

ओस और धूप के सदमे न सहेगा कोई अब मेरे देश में बेघर न रहेगा कोई नए वादों का जो डाला है वो जाल अच्छा है रहनुमाओं ने कहा है की ये साल अच्छा है बेहतरीन पंक्तियां दिव्या जी काश इन रहनुमाओं की भी बदनियति में  भी कोई  साकारात्मक चमत्कार हो पाता

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    इसी उम्मीद में है सभी की इन रहनुमाओ की बदनीयती में कोई साकारात्मक बदलाव आये और ये किसी चमत्कार से कम नहीं होगा | आप का तहे दिल से शुक्रिया मीनू जी :)

वाहिद काशीवासी के द्वारा
January 1, 2012

दिव्या जी, अज़ीमुश्शान फ़नकार जगजीत साहब की आवाज़ में ये नज़्म सुनी है। इसे लिखा भले ही ग़ालिब ने न हो मगर उन्हीं के दो मिसरों - एक बराहमन ने कहा है के ये साल अच्छा है - दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये ख़याल अच्छा है - से प्रेरित यह रचना बेहद ही ख़ूबसूरत भाव संजोये हुए है अपने मुल्क और उसकी अवाम के वास्ते। सचमुच आजकल के हालात पर ये कितनी प्रासंगिक है।  संभवतः गुलज़ार साहब के अल्फ़ाज़ से सजी ये नज़्म एक बेहतर कल की आस जगाती है। इसे यहाँ साझा करने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रगुज़ार हूँ।

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय वाहिद जी, सादर नमस्कार बिलकुल वाहिद जी ग़ालिब की लिखी गज़ल के दो मिसरों से सजी ये गज़ल आजकल के हालात पर प्रासंगिक है | मुझे भी ऐसा ही लगता है की ये गुलजार साहब की ही नज़्म है | मेरी भी ये ही ख्वाहिश है की आने वाला कल बेहतर हो | आप का तहे दिल से शुक्रिया वाहिद जी

jlsingh के द्वारा
January 1, 2012

रहनुमाओं ने कहा है की ये साल अच्छा है दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है अच्छा सोंचना चाहिए! हम सभी आशावादी हैं अच्छी रचना के लिए बधाई! और आपको नव वर्ष की शुभकामना!

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय जे.एल सिंह जी, सादर नमस्कार सराहना और प्रोत्साहन भरी इस प्यारी सी प्रतिक्रिया के लिए आप का बहुत बहुत शुक्रिया

January 1, 2012

बहुत खूबसूरत नज़्म …आपको बहुत बहुत बधाई ! नया साल आपको मुबारक हो !!!

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय डॉ॰ साहब, नमस्कार आप का बहुत बहुत शुक्रिया

rudrapunj के द्वारा
January 1, 2012

चहुँ ओर उल्लास हो ,नितदिन हो उत्कर्ष | शुभकामना है मेरी, हो मंगलमय नव वर्ष | रुद्रनाथ त्रिपाठी “पुंज” (एडवोकेट )वाराणसी

    div81 के द्वारा
    January 3, 2012

    आदरणीय रूद्र जी, सादर नमस्कार इस प्यारी सी शुभकामना के लिए आप का तहे दिल से शुक्रिया


topic of the week



latest from jagran